संजीवनी सहायता कोष

 

 

 

राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे संजीवनी सहायता कोष योजना का उद्देश्य गरीबी रेखा के नीचे जीवन जीने वाले लोगों को शासकीय एवं शासन द्वारा मान्यता प्राप्त अस्पतालों में इलाज कराए जाने हेतु आर्थिक सहायता उपलब्ध कराना है। योजना की शुरुवात 2004 में हुई थी और इसके अंतर्गत 13 बीमारियों का ही इलाज होता था परन्तु इसका विस्तार करते हुए राज्य सरकार ने इस योजना के अंतर्गत 30 बीमारियों के उपचार का प्रावधान किया है।

पात्रता

इस योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदक गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवार का हो तथा मुख्यमंत्री खाद्यान्न योजना अंतर्गत राशन कार्ड धारी परिवार का हो।

योजना का लाभ कैसे ले

इस योजना के तहत राज्य सरकार अधिकतम डेढ़ लाख रूपए तक की आर्थिक सहायता भी प्रदान करती है परन्तु हेड इन्ज्यूरी एवं गुर्दा प्रत्यारोपण हेतु 2.00 लाख एवं 3.00 लाख रूपये प्रदान करती है। इस योजना का लाभ उठाने के लिए मरीज पंजीकृत अस्पताल में भर्ती होकर योजना का लाभ उठा सकते हैं।

Share This